Hindi

‘मैजिक विदाउट लॉजिक’ सीखना हैं तो मिलिए इन पांच दोस्तों और दो हसीनाओं से

ऊटी के जमनादास अनाथ आश्रम के पांच दोस्त गोपाल (अजय देवगन), माधव (अरशद वारसी), लकी (तुषार कपूर), लक्ष्मण 1 (श्रेयस तलपड़े) और लक्ष्मण 2 (कुणाल खेमू ) अनाथालय के गुरु की मौत के बाद सब अनाथालय में पहुंचते हैं.

 

वहां उन्हें पता चलता है कि वासु रेड्डी नाम का कोई बिल्डर (प्रकाश राज) और उसके साथी निखिल (नील) उस आश्रम और उसके साथ लगे कर्नल चौहान (सचिन केलकर) के प्लॉट को हथियाना चाहते हैं.

लेकिन तभी उन्हें एहसास होता है कि उनकी गैर-मौजूदगी में कुछ फ्रेंडली भूत वहां रहने लगे हैं

साउथ की फिल्म कंचन से प्रेरणा लेते हुए इस फिल्म में भी एक ऐसे भूत को दिखाया गया है जो बदला लेना चाहता है. हालांकि इन डरावने पलों को भी बेहद हल्के-फुल्के अंदाज में फिल्माया गया है.

इस दौरान अनाथलय की लाइब्रेरियन अन्ना मैथ्यू (तब्बू), जो कि आत्माओं से बात कर सकती हैं, वह उन लड़कों को गाइड करने का काम करती हैं.

परिणीति अपनी पिछली फिल्मों के विपरीत कम बोली हैं और अजय – परिणीति की केमिस्ट्री भी अच्छी लग रही है.

भुतहा ट्रेक में कुछ बातों के दोहराव के बावजूद फिल्म बिखरी नहीं हैं.तो वहीं गोलमाल फ्रेंचाइजी की चौथी फिल्म में रोहित शेट्टी ने फिल्म में तीन बार यह संवाद दोहराया हैं कि जब गॉड की मर्जी होती है तो लॉजिक नहीं मैजिक चलता है..

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप फिल्म शुरुआत से देख रहे हैं या बीच से.अपनी पिछली फिल्मों की ही तरह ‘गोलमाल अगेन’ में भी आपको विशुद्ध कॉमिडी और मस्ती देखने को मिलेगी.वैसे इस पूरी फिल्म के दौरान आप पेट पकड़कर हंसते रहेंगे क्योंकि फिल्म के हर अभिनेता को देखना अपने आपमें मजेदार अनुभव है.

फिल्म में इस बार परिणीति चोपड़ा, तब्बू, नील नितिन मुकेश की नई एंट्री हुई है. ये तीनों ही अपने-अपने रोल में फिट लग रहे हैं.

Back to top button