Wednesday, December 1, 2021
No menu items!
HomeHindiछोटे क़द और हस्की आवाज के साथ रानी ने पाया बड़ा मुकाम

छोटे क़द और हस्की आवाज के साथ रानी ने पाया बड़ा मुकाम

Rani Mukerji

किसी बॉलीवुड अभिनेत्री के लिए कम हाइट और हल्की आवाज़ के साथ इंडस्ट्री में जगह बनाना काफी मुश्किल भरा रहता है. लेकिन रानी मुखर्जी ने इन सभी मुश्किलों के बावजूद बॉलीवुड में एक ऊंचा मुकाम हासिल किया.

21 मार्च 1978 को मुंबई (महाराष्ट्र) में जन्मी रानी मुखर्जी का परिवार फिल्म इंडस्ट्री से ही ताल्लकु रखता था. उनके पिता राम मुखर्जी एक फिल्म डायरेक्टर हुआ करते थे और उनकी मां कृष्णा मुखर्जी एक प्लेबैक सिंगर हुआ करती थी. रानी के भाई राजा मुखर्जी भी फिल्म एंड इंडस्ट्री से जुड़े हुए प्रोड्यूसर डायरेक्टर हैं. इनके अलावा मशहूर डायरेक्टर अयान मुखर्जी और अभिनेत्री काजोल भी रानी के चचेरे भाई बहन हैं.

पिता की फिल्म से की शुरुआत

रानी मुखर्जी ने अपनी मां कृष्णा के कहने पर अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1996 की अपने पिता के द्वारा बनाई गई बंगाली फिल्म ‘बियेर फूल’ से की, बाद में यही फिल्म हिंदी में ‘राजा की आएगी बारात’ के नाम से बनाई गई जिसमें रानी ने मुख्य भूमिका निभाई थी. इस फिल्म ने बॉक्सऑफिस पर काफी अच्छा प्रदर्शन किया था. इसके बाद रानी ने 1998 में आमिर खान के साथ विक्रम भट्ट की फिल्म ‘गुलाम’ की थी जिसमें उनके किरदार को काफी सराहना मिली थी.

आवाज को डब करने में की मेहनत

उसी साल रानी ने मशहूर फिल्म कुछ कुछ होता है में साइड रोल निभाया. साल 1998 में रिलीज हुई फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ में जब ट्विंकल खन्ना ने टीना मल्होत्रा का किरदार करने से मना कर दिया, तब वही रोल रानी मुखर्जी के हिस्से में आया और बाद में उस रोल को बहुत प्रशंसा मिली. फिल्म में हस्की आवाज होने के कारण पहले रानी की आवाज को डायरेक्टर करण जौहर किसी और से डब कराना चाहते थे लेकिन रानी ने काफी मेहनत की और आखिरकार अपनी आवाज खुद डब की.

साल 2000 के दौरान रानी ने ‘बादल’, ‘बिच्छू’, ‘हे राम’, ‘हर दिल जो प्यार करेगा’ , ‘कहीं प्यार ना हो जाए’ जैसी फिल्में भी की लेकिन बॉक्स ऑफिस पर ये सभी फिल्में विफल रहीं, वैसे फिल्म ‘हे राम’ उस साल भारत की तरफ से ऑस्कर के लिए भेजी गई ऑफिशियल फिल्म भी थी.

लगातार मिली सफलता

Rani Mukerji

साल 2001 में भी रानी ने ‘चोरी चोरी चुपके चुपके’, ‘बस इतना सा ख्वाब है’ और ‘नायक : द रीयल हीरो’ जैसी फिल्में की , लेकिन ये सब भी बॉक्स ऑफिस पर कमजोर साबित हुई, फिर साल 2002 में जब शायद अली ने रानी मुखर्जी के साथ ‘साथिया’ फिल्म बनाई तो रानी का करियर एक बार फिर से ट्रैक पर आ गया था , साथिया के लिए रानी को उस साल का बेस्ट एक्ट्रेस (क्रिटिक) का फिल्मफेयर अवार्ड भी दिया गया था. फिल्म युवा, ब्लैक और ‘नो वन किल्ड जेसिका’ के लिए रानी को फिल्मफेयर पुरस्कार भी दिए जा चुके हैं.

रानी ने निर्माता निर्देशक आदित्य चोपड़ा के साथ 21 अप्रैल 2014 को पेरिस में चुपचाप परिवार के कुछ सदस्यों की मौजूदगी में शादी की थी. इन दोनों को 9 दिसंबर 2015 में एक बेटी भी हुई जिसका नाम ‘अदीरा’ रखा गया.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular