Hindi

तो इस वजह से नहीं चाहती थी करनी सेना की आप देखें पद्मावत

निर्देशक संजय लीला भंसाली की सबसे विवादित फिल्म आख़िरकार सिनेमाघरों तक तो पहुंच गई जिसे देखने के बाद ये पता चला कि इसकी रिलीज़ पर बवाल करने वाले क्यूं नहीं चाहते थे कि दर्शक इस फिल्म को देखें. हम आपको बताते हैं इस फिल्म का लगातार विरोध करने वाली करनी सेना नहीं चाहती थी कि लोग पद्मावत देखें.

आरोप था कि फिल्म में राजपूतों की परंपरा के खिलाफ़ और इतिहास के तथ्यों से छेड़छाड़की गई है. जैसा इस फिल्म में देखने को नहीं मिला. दीपिका पादुकोन की नाक काटने पर ईनाम रखने वाली, हिंसा भड़काने वाली करनी सेना दरअसल किसी और वजह से नहीं चाहती थी कि दर्शक पद्मावत देखें. आइए आपको बताते हैं वो 7 वजहें-

Padmaavat

  1. हिरोइन है ज़्यादा समझदार- पद्मावती की अकलमंदी और रणनीति बनाने के कौशल को इस फिल्म में दिखाया गया है. जिससे वो मर्दों से ज़्यादा बुद्धिमान साबित हुई हैं. महिलाओं की इस छवि को छुपाने के लिए करनी सेना नहीं चाहती थी कि आप पद्मावत देखें.
  2. ब्राह्मणों से ज़्यादा पढ़ी लिखी हैं पद्मावती- पद्मावती के एक सीन में ब्राह्मणों द्वारा पूछे गए सभी प्रश्नों के सही उत्तर देते दिखाया गया है. सवाल ये उठता है कि ब्राह्मणों से ज़्यादा शिक्षा किसी के पास कैसे हो सकती है वो भी एक महिला के पास इसलिए हुआ था इस फिल्म का विरोध.
  3. हीरो के सम्मान को बचाती है हिरोइन- अक्सर हर फिल्म में हीरो ही हिरोइन के सम्मान को बचाता नज़र आता है लेकिन इस फिल्म में हिरोइन हीरो के सम्मान को बचाती नज़र आ रही है. आख़िर ऐसा हो कैसे सकता है क्योंकि महिलाएं तो समाज का कमज़ोर वर्ग मानी जाती हैं इसलिए था फिल्म पर ऐतराज़.
  4. सही निकलती है एक महिला की राय- इस फिल्म में महिला अपने पति से ज़्यादा अकलमंद दिखाई गई है. जो अपने पति को सही राय देती है जिसके बावजूद जब सम्मान पर बन पड़ती है तो उसकी राय को नहीं माना जाता जो बाद में मुश्किल का सबब बनती है.
  5. अपना फैसला लेती महिला- इस फिल्म में पद्मावती को जौहर जैसा बड़ा फैसला लेते दिखाया गया है. आख़िर पुरुषों के आगे एक महिला इतना बड़ा फैसला कैसे ले सकती है ये हमारी परंपरा के खिलाफ़ है, इसलिए फिल्म पर हुआ था विवाद.
  6. राजपूतों में एकजुटता की कमी- सम्मान के लिए मर मिटने वाले राजपूतों के बीच इस फिल्म में एकता की कमी दिखाई गई है. चित्तौड़ पर जब खिलजी पहला हमला करता है तब राजा रतन सिंह पड़ोसी राजपूत राजा की मदद मांगता है लोकिन वो उसकी मदद नहीं करता ऐसी सच्चाई दिखाए जाने पर ही तो करनी सेना को ऐतराज़ था.
  7. पुरुष के किए का फल भुगतती है महिला- आख़िर पद्मावती को जौहर क्यूं करना पड़ा? क्यूंकि राजपूत राजा तीन बार अपना सम्मान बनाए रखने के लिए अपने दुश्मन को छोड़ देता है. मौका होने के बावजूद अपनी झूठी शान के लिए वो दुश्मन को जाने देता है जिसका फल महिलाओं को भुगतना पड़ता है.
Back to top button