Hindi

बॉलीवुड में एंट्री लेने से पहले इन स्टार्स में से, कोई था वॉचमैन तो कोई कॉपी राइटर

बॉलीवुड में ऐसे कई स्टार्स हैं जिन्होनें फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले किसी ने अपने करियर  की शुरुआत बॉचमैन बनकर तो किसी ने कॉपी राइटर बनकर की. वैसे इनमें से कुछ ऐसे कलाकार भी है जिसमें से किसी को फर्श से अर्श तक पहुंचने में कई सालों लग गए तो कईयों ने पलक झपकते ही इंडस्ट्री में सफलता हासिल कर ली.तो चलिए जानते हैं इंडस्ट्री में आने से पहले आखिर क्या करते थे ये स्टार्स

रणवीर सिहं

Babloo Bachelor Poster 1

साल 2010 में फिल्म बैंड बाजा बारात से बॉलीवुड में एंट्री लेने वाले  रणवीर सिहं मुंबई की एक एड एंजेसी मे कापीराइटर के पद पर थे.रणवीर अपने डायरेक्टर दोस्त मनीष शर्मा के कहने पर इस इंडस्ट्री में आए थे.

सोनम कपूर

1st look of sonam-kapoor in neerja

हाल ही में सोनम कपूर ने सिमी ग्रेवाल के चैट शो में इस बात पर खुलासा करते हुए बताया कि जब वो सिंगापुर में पढाई कर रही थी तब उनकी पॉकेट मनी बहुत कम थी लेकिन तब उन्होनें अपनी एक्स्ट्रा पॉकेट मनी के लिए एक रेस्टोरेंट में वेट्रेस की नौकरी की थी.

सोनाक्षी सिन्हा

Sonakshi Sinha in Lootera

साल 2010 में आई फिल्म दंबग से डेब्यू करने वाली सोनाक्षी सिन्हा ने पहले बतौर कॉस्ट्यूम डिजडाइनर काम किया था.

अरशद वारसी

Arshad Warsi cool

फिल्मों में आने से पहले अरशद डोर-टू-डोर जाकर कॉस्मेटिक आइटम बेचते थे. जब उन्होनें सेल्समैन का काम किया तब वो मात्र 17 साल के थे. हालांकि इसके बाद उन्होनें फोटो लैब में भी काम किया.

नवाजुद्दीन  सिद्दीकी

Nawazuddin Siddiqui

फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ से पॉपुलर हुए नवाजुद्दीन ने पढ़ाई करने के बाद वडोदरा में कुछ समय तक केमिस्ट की दुकान पर नौकरी की. इसके बाद उन्होनें थिएटर ग्रुप ज्वाइन किया हालांकि इस वक्त उन्हें पैसे की काफी तंगी थी जिस वजह से उन्होनें बाद में वॉचमैन की नौकरी की.

शाहरुख खान

Shahrukh-Khan-in Dilwale -480x640

बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान ने अपने स्ट्रगलिंग डेज के दौरान दिल्ली में बतौर कान्सर्ट अटेंडर के तौर पर काम किया.हर एक लाइव कॉन्सर्ट के लिए उन्हें 50 रुपए फीस मिलती थी.

आर माधवन

Tenu Weds Manu Returns

इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद भी माधवन अपना करियर एक्टिंग लाइन में बनाना चाहते थे.लेकिन इस सपने को पूरा करने के लिए वो कॉलेजों में पब्लिक स्पीकिंग और कम्युनिकेशन स्किल्स पढाते थे.

Back to top button