Hindi

 पद्मावत से पहले इन फिल्मों पर भी खूब हुआ है बवाल

Padmavati Movie

निर्देशक संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ अब पद्मावत बन चुकी है, लेकिन अब भी विरोध नहीं थमने का नाम नहीं ले रहा है. हालांकि अब अनगिनत विवादों से गुज़रते हुए पद्मावत 25 जनवरी को रिलीज़ होने जा रही है पर विरोध करने वाले अब तक शांत नहीं हुए हैं. यक़ीनन फिल्म की रिलीज़ में आ रही अड़चनें कम होती नहीं दिख रही हैं.

सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिलने के बाद समझा जा रहा था कि अब सभी विवाद ठंडे बस्ते में जा चुके हैं लिकिन वो ग़लत साबित हुआ. अब भी इस फिल्म का विरोध करने वाले इस की रिलीज़ को रोकने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. फिल्म ही नहीं बल्कि इसके गानों को लेकर भी एक विशेष समुदाय हंगामा करने से बाज़ नहीं आ रहा है.

Babloo Bachelor Poster 1

दरअसल, दिल्ली के सुल्तान रहे अलाउद्दीन खिलजी और रानी प्दमिनी के दरमियां कथित प्रेम प्रसंग के दृश्यों की अफ़वाह के चलते फिल्म पर हंगामा बरपा था. निर्देशक भंसाली ने कई बार साफ़ किया के उनके बीच इस तरह का कोई दृश्य नहीं दर्शाया गया लेकिन फिर भी इस फिल्म का विरोध नहीं थमा. बहरहाल, ‘पद्मावत’ से पहले कई बार हिंदी फिल्में विवादों में घिर चुकी हैं. आइए जानते हैं कौन सी हैं वो फिल्में जिनकी रिलीज़ पर भी मंडराए थे काले बादल-

 

ए दिल है मुश्किल

निर्देशक करण जौहर की फ़िल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को लेकर भी साल 2016 में काफी विवाद हुआ था. हालांकि इस विवाद का कारण फिल्म की कहानी नहीं बल्कि पाकिस्तानी अभिनेता फ़वाद ख़ान थे. उस दौरान उरी हमले के चलते भारत-पाक के रिश्तों में आई खटास का ख़ामियाज़ा करण जौहर को भरना पड़ा और फिल्म को रिलीज़ करवाने के लिए उन्हें बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा.

 

पीके

मिस्टर परफेक्शनिस्ट फ़िल्म ‘पीके’ को भी विवादों का सामना करना पड़ा था. एक समुदाय विशेष के लोगों ने जमकर इस फिल्म का विरोध किया था. इस फिल्म में सभी धर्म को लेकर कई टिप्पणी की गईं थी जिसको लेकर विवाद भड़का था.

 

गोलियां की रासलीला राम लीला

निर्देशक संजय लीला भंसाली की फ़िल्मों का विवाद से जैसे चोली दामन का साथ है. पद्मावत से पहले ‘गोलियों की रासलीला राम लीला’ को भी विवाद झेलना पड़ा था. इस फिल्म की रिलीज़ से सिर्फ दो दिन पहले फिल्म का नाम बदला गया था.

ओएमजी- ओह माय गॉड

अक्षय कुमार की फ़िल्म ‘ओएमजी- ओह माय गॉड’ को लेकर भी ख़ूब हंगामा हुआ था. धर्म के नाम पर फैलाए जा रहे अंधविश्वास को उजागर करने वाली इस फिल्म को रोकने के लिए कई लोगों ने अदालत का दरवाज़ा भी खटखटाया था.

फ़ना

कई बार फिल्मों का विरोध केवल फिल्म से मतभेद के चलते ही नहीं फिल्म में महत्वपूर्ण किरदार निभाने वाले सितारों की वजह से भी हुआ है. दरअसल, आमिर ख़ान के नर्मदा डैम की हाइट बढ़ाने के ख़िलाफ़ चल रही मुहिम से जुड़ने का ख़ामियाज़ा उनकी फिल्म फ़ना को भुगतना पड़ा. उनकी फिल्म को गुजरात में रिलीज़ नहीं होने दिया गया था.

Back to top button