Hindi

खिलाड़ी कुमार बने समाज के हीरो

खिलाड़ी कुमार बने समाज के हीरो

एक वक़्त पर अक्षय कुमार की पहचान एक्शन हीरो के तौर पर होती थी. पर आज उनकी पहचान ऐसी फ़िल्मों से है जो समाज को एक संदेश भी देती हैं. अक्षय का ये कदम बॉक्स ऑफ़िस पर भी कामयाब है. एक नज़र उनकी ऐसी फ़िल्मों पर जो हैं ‘एंटरटेनमेंट विद अ मैसेज’.

  • ओह माय गॉड

2012 में रिलीज़ हुई इस फ़िल्म में देश में फैले धार्मिक कट्टरपन पर वार किया गया था. इस फ़िल्म में परेश रावल ने मुख्य किरदार निभाया था और अक्षय भगवान कृष्ण के किरदार में थे. अक्षय परेश रावल के किरदार को रास्ता दिखाने का काम करते हैं. फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस और समीक्षकों दोनों को ही बेहद पसंद आई थी.

Babloo Bachelor Poster 1
  • गब्बर इज़ बैक

इस फ़िल्म से अक्षय ने भ्रष्टाचार पर हल्ला बोला था. अक्षय का किरदार इस फ़िल्म में भ्रष्ट लोगों को सज़ा देता है और समाज से बुरे लोगों का ख़ात्मा करता है. इस फ़िल्म में अक्षय अलग लुक में नज़र आए थे. लुक के साथ साथ अक्षय का किरदार और फ़िल्म दोनों ही सफल साबित हुए. फ़िल्म सुपर हिट साबित हुई थी.

  • जॉली एल एल बी पार्ट-2

इस फ़िल्म में अक्षय एक वकील बने थे जो शुरू में इंसाफ़ दिलाने के नाम पर एक निर्दोष महिला से पैसे ऐंठ लेता है. ग़लती का एहसास होने पर अक्षय उस महिला का केस लड़ते हैं और जीतते हैं. इस फ़िल्म के ज़रिए अक्षय ने इंसाफ़ मिलने में आ रही देरी और क़ानूनी दांव पेचों की ओर ध्यान खींचा था. 2017 की सबसे सफल फ़िल्मों में से एक थी जॉली एल एल बी पार्ट 2.

  • टॉयलेट एक प्रेम कथा

ज़िंदगी के लिए टॉयलेट कितना ज़रूरी है इस मसले पर अक्षय कुमार ने इस फ़िल्म के ज़रिए ध्यान खींचा. अक्षय एक ऐसे आदमी के किरदार में होते हैं जिसके घर में टॉयलेट नहीं होता. इस फ़िल्म में दिखाया गया था कि शादी के बाद उनकी पत्नी को किस तरह टॉयलेट ना होने की वजह से दिक्कतें आती हैं. परिवार और समाज से लड़कर अक्षय अपने घर में टॉयलेट बनाते हैं.

  • पैडमैन

पैडमैन के ज़रिए अक्षय एक ऐसा विषय उठा रहे हैं जिसे बॉलीवुड ने कभी नहीं छुआ. पीरियड से जुड़ी परेशानियां और सैनिटरी नैपकिन तक महिलाओं की पहुंच ना होने से कितनी दिक्कतें आती हैं अक्षय की फ़िल्म में देखने को मिलेगा. अक्षय इस फ़िल्म में सस्ते सैनिटरी नैपकिन बनाने वाले शख़्स का किरदार अदा कर रहे हैं.

Back to top button