Hindi

इन पीरियड फ़िल्मों को नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा

Period Movies Of Bollywood

गुज़रा ज़माना हमेशा से ही फ़िल्म इंडस्ट्री को लुभाता रहा है. ओल्ड इज़ गोल्ड कहावत को सच साबित करते हुए बॉलीवुड ने कई पीरियड फ़िल्में बनाई हैं जो काफ़ी सफल साबित हुई हैं. एक नज़र डालते हैं ऐसी ही पीरियड फ़िल्मों पर.

  • मुग़ल ए आजम

लिस्ट की शुरुआत सबसे बेहतरीन पीरियड फ़िल्म से करेंगे. मुग़ल ए आज़म को बनने में 10 साल से ज़्यादा का वक़्त लगा था. फ़िल्म में अपने ज़माने के सभी टॉप के एक्टर्स थे. के आसिफ़ ने राजसी शान-ओ-शौकत को पर्दे पर दिखाने के लिए रुपये पैसों की कोई कमी नहीं छोड़ी. फ़िल्म को बनाने में उस वक़्त की सबसे बेहतरीन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था. शायद ही कोई भारतीय हो जिसने इस फ़िल्म को ना देखा हो.

Babloo Bachelor Poster 1
  • शतरंज के खिलाड़ी

सत्यजीत रे की ये इकलौती हिंदी फ़िल्म है. सत्यजीत रे ने प्रेमचंद की कहानी पर इस फ़िल्म को बनाया था. लखनऊ के 2 नवाबों और नवाबों के दौर को पर्दे पर दिखाने के लिए सत्यजीत रे ने कोई कसर नहीं छोड़ी. उस साल का बेस्ट डायरेक्टर का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी सत्यजीत रे को ही मिला था.

  • ताजमहल

1963 की इस फ़िल्म में मुग़ल बादशाह शाहजहां और मुमताज़ महल की प्रेम कहानी को दिखाया गया था. प्रदीप कुमार और बीना राय से सजी ये फ़िल्म बहुत मशहूर हुई थी. इस फ़िल्म के गाने ‘जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा’ को लोग आज भी गुनगुनाना पसंद करते हैं.

  • शहीद

मनोज कुमार के डायरेक्शन वाली ये फ़िल्म शहीद भगत सिंह की ज़िंदगी पर आधारित थी. देशभक्ति से भरी इस फ़िल्म को ख़ूब पसंद किया गया था. यहां तक कि भगत सिंह के परिवार के लोगों ने भी फ़िल्म को देखकर मनोज कुमार समेत पूरी टीम को आशीर्वाद दिया था.

  • लगान

आमिर ख़ान ने ना सिर्फ़ इस फ़िल्म में काम किया था बल्कि इसे प्रोड्यूस भी किया था. 100 साल पहले की काल्पनिक कहानी पर बनी ये एक बेहतरीन फ़िल्म है. बॉलीवुड की इस बेहतरीन फ़िल्म को ऑस्कर में भी नॉमिनेशन मिला था.

  • जोधा अकबर

2008 में आई इस फ़िल्म को आशुतोष गोवारिकर ने डायरेक्ट किया था. ऋतिक रौशन और ऐश्वर्या राय ने अकबर और जोधा का किरदार अदा किया था. युवा अकबर और जोधा की प्रेम कहानी को पहली बार दर्शकों ने पर्दे पर देखा था. इस वजह से दर्शकों ने इस फ़िल्म को काफ़ी पसंद किया था. मुग़लों के उस दौर को दिखाने के लिए डायरेक्टर समेत फ़िल्म की टीम ने काफ़ी मेहनत की थी.

  • बॉर्डर

1971 भारत-पाकिस्तान युद्ध पर आधारित बॉर्डर को समीक्षकों की काफ़ी वाहवाही मिली थी. युद्ध के दौरान सेना के पराक्रम को इस फ़िल्म ने काफ़ी अच्छे ढंग से पर्दे पर पेश किया.

  • लुटेरा

विक्रमादित्य मोटवाने की फ़िल्म में रणवीर सिंह और सोनाक्षी सिन्हा ने मेन रोल निभाया था. 50 के दशक को दर्शाने वाली इस फ़िल्म को आज एक कल्ट फ़िल्म का दर्जा हासिल है.

  • बाजीराव मस्तानी

संजय लीला भंसाली की फ़िल्म को समीक्षकों समेत दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया था. इस फ़िल्म को संजय लीला भंसाली की बेस्ट फ़िल्म माना जाता है.

  • पद्मावत

महारानी पद्मिनी के जीवन पर आधारित इस फ़िल्म को संजय लीला भंसाली ने बनाया है. दीपिका पादुकोण इस फ़िल्म में टाइटल रोल निभा रही हैं. रणवीर सिंह और शाहिद कपूर भी फ़िल्म में अहम रोल में हैं.

Back to top button