Hindi

आशा ताई के जन्मदिवस के मौके पर उनसे जुड़ी उनकी कुछ खास बातें

बॉलीवुड में आशा ताई और सुरों की मल्लिका के रुप में पहचानी जाने वाली आशा भोसलें 1000 से ज्यादा फिल्मों में 20 भाषाओं में 12000 से भी ज्यादा गीत गा चुकी हैं. 8 सितम्बर 1933 को ब्रिटिश इंडिया के सांगली स्टेट में पैदा हुई आशा भोसलें ने बॉलीवुड में अपने दम पर पहचान बनाई जिस वजह से ये आज किसी भी परिचय की मोहताज नही हैं.तो चलिए जानते हैं आशा भोसलें की जिंदगी से जुड़ी उनकी कुछ खास बातें..

Babloo Bachelor Poster 1

आशा जी मशहूर शिएटर एक्टर और क्लासिकल गायक दीनानाथ मंगेशकर की बेटी औऱ स्वर सम्राज्ञी लता मंगेशकर की छोटी बहन हैं हो ना हो पर इनके खून में संगीत बसा हुआ था.

आशा भोसलें ने 10 साल की उम्र से ही गाना शुरु कर दिया था.दरअसल 9 साल की उम्र में ही आशा के पिता का देहांत हो गया था जिस वजह से अपने परिवार को आर्थिक सहायता देने के लिए उन्होनें अपनी छोटी बहन लता के साथ साथ मिलकर एक्टिंग औऱ सिंगिंग शुरु कर दी थी.

आशा जी ने 1943 में मराठी फिल्म ‘माझा बाल’ में पहला गीत ‘चला चला नव बाला’ को अपनी सुरीली आवाज दी थी. इसके बाद 1948 में उन्होनें बॉलीवुड फिल्म चुनरिया का गीत सावन गाया औऱ फिर इसके बाद उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़ के नहीं देखा.

आशा जी ने सिर्फ 16 साल  की उम्र में अपने से 31 साला बड़े गणपत राव भोसले से धर वालों के विरुद्ध जाकर घर से भागकर शादी की.लेकिन सुसराल वालों का रवैया सही ना होने पर ये शादी लंबे समय तक ना टिक पाई और आशा जी पति और ससुराल को छोड़कर अपने दो बच्चों के साथ मायके चली आई थी और फिर से सिंगिंग शुरू कर दी थी.

साल 1980 में आशा जी ने मशहूर संगीतकार राहुल देव बर्मन उर्फ पंचम दा से शादी कर ली.हालांकि ये आशा भोसलें की दूसरी शादी थी औऱ शादी के वक्त पंचम दा आशा ताई से 6 साल छोटे थे. फिलहाल दोनों की ही एक शादी टूट चुकी थी. लेकिन ये शादी सफल रही और आरडी बर्मन ने अपनी आखिरी सांस तक आशा का साथ दिया.

आशा जी गाने के साथ-साथ कुकिंग का भी शौक रखती हैं.

आशा भोसले को 7 बार फिल्मफेयर अवार्ड , 2 बार नेशनल अवॉर्ड, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है.1997 में आशा भोसले पहली भारतीय सिंगर बनी जिन्हे ग्रैमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया था.

आशा भोसले ने ओ पी नय्यर, खय्याम, रवि, सचिन देव बर्मन, राहुल देव बर्मन, इल्लिया राजा, ए. आर रहमान, जयदेव, शंकर जयकिशन, अनु मलिक, मदन मोहन जैसे मशहूर संगीतकारों के लिए भी अपनी आवाज दी है.

Back to top button